Press "Enter" to skip to content

शंकरचार्य बोले- राष्ट्रमाता बनाएं गाय को, भारत बंद 10 को: राजिम में कहा- गौ-हत्या नहीं रोक पाए जो सरकार उसको वोट देना भी पाप है /#छत्तीसगढ़

रायपुर

गाय, गीता, गंगा और धर्मांतरण पर मीडिया से बात करते शंकराचार्य।

शंकराचार्यों ने गौ माता को राष्ट्र माता का दर्जा दिए जाने की मांग को लेकर 10 मार्च को भारत बंद बुलाया है। इसके बाद 14 मार्च को पैदल संसद मार्च करेंगे। उन्होंने कहा कि, गौ हमारी माता है, लेकिन उनके प्रति अमानवीय व्यवहार बंद नहीं हो रहा है।

छत्तीसगढ़ के राजिम कल्प कुंभ में शामिल होने पहुंचे ज्योतिष-पीठ के शंकराचार्य स्वामी अविमुक्तेश्वरानंद सरस्वती और द्वारिका पीठ के शंकराचार्य सदानंद सरस्वती ने कहा कि, जिस देश में गीता, गौ और गंगा को माता का स्थान दिया गया है, वहां गौ हत्या रोकने का प्रयास नहीं हाे रहा है।

स्वामी अविमुक्तेश्वरानंद सरस्वती मीडिया से चर्चा करते हुए।

स्वामी अविमुक्तेश्वरानंद सरस्वती मीडिया से चर्चा करते हुए।

शंकराचार्य स्वामी अविमुक्तेश्वरानंद ने कहा कि, 75 वर्षों में दिल्ली में अनेक दलों की सरकार आई, लेकिन गौ हत्या को रोकने के लिए कोई सख्त नियम नहीं बना पाई है। गौ माता को राष्ट्रमाता का दर्जा मिले, इसलिए 10 मिनट के लिए भारत बंद रहेगा।

करे जो गो माता पर चोट, कैसे दें हम उसको वोट

शंकराचार्य ने कहा कि, यदि कोई सरकार गौ हत्या नहीं रोक पा रही है, फिर भी हम उसे वोट दे रहे हैं तो यह हमारे द्वारा किया जा रहा पाप है। उन्होंने सनातनी लोगों से गौ-हत्या रोकने की अपील की। उन्होंने कहा कि आगामी चुनाव में कौन सी पार्टी सत्ता में आएगी, यह अभी से नहीं कहा जा सकता।

राजिम कुंभ में सोमवार को जानकी जयंती पर दूसरा शाही स्नान हुआ।

राजिम कुंभ में सोमवार को जानकी जयंती पर दूसरा शाही स्नान हुआ।

वहां जाएंगे, जहां गौ भक्तों पर चली गोलियां

उन्होंने बताया कि, 14 मार्च को गिरिराज गोवर्धन की परिक्रमा करके दिल्ली के संसद भवन रवाना होंगे। हम संसद भवन के उसे कोने तक जाएंगे जहां सन 1966 में गौ भक्तों के ऊपर गोलीबारी की गई थी। उन्होंने कहा कि, इस यात्रा में हम उन सभी राजनीतिक पार्टियों को आमंत्रित करते हैं, जो गौ माता के शपथ पत्र को स्वीकार करते हैं।

गौ हत्या कैसे रोकेंगे, ये शासन-प्रशासन का काम

वहीं शंकराचार्य स्वामी सदानंद सरस्वती ने कहा कि, गौ माता को राष्ट्र माता घोषित किया जाना चाहिए ताकि गौ वध बंद हो। नॉर्थ ईस्ट में गौ हत्या कैसे रोकेंगे इस पर शंकराचार्य ने कहा कि इसे रोकना शासन-प्रशासन का काम है, हमारा नहीं। हम धर्म गुरु हैं।

छत्तीसगढ़ में धर्मांतरण पर कानून की तैयारी पर कहा कि पूरे देश में धर्मांतरण हो रहा है, अगर कानून लाया जा रहा है तो प्रशंसा के योग्य है। शंकराचार्य ने संदेशखाली कि घटना पर आपत्ति जताते हुए कहा कि, ऐसी घटनाएं नहीं होनी चाहिए।

कुंभ में श्रद्धालुओं के स्नान करने के लिए इस तरह से घाट बनाया गया है। (फाइल फोटो)

कुंभ में श्रद्धालुओं के स्नान करने के लिए इस तरह से घाट बनाया गया है। (फाइल फोटो)

राजिम का त्रिवेणी संगम पवित्र स्थल बना

शंकराचार्य अविमुक्तेश्वरानंद ने कहा कि, संतों की वाणी से लोगों को सदाचार व्यवहार की शिक्षा मिलती है। राजिम का त्रिवेणी संगम, आचार्य का समागम, आध्यात्मिक लाभ से पवित्र स्थल बन चुका है। कुंभ कल्प का मतलब कुंभ जैसा होना है. कुंभ कल्प बोलने से मान घटता नहीं है, बल्कि और बढ़ जाता है।

दूसरे स्नान में उमडी भीड़

चार मार्च सोमवार को जानकी जयंती के दिन दूसरे शाही स्नान हुआ। इस शाही स्नान में संतों, नागा साधुओं के अलावा बडी संख्या में श्रद्धालु भी शामिल हुए। दूसरे शाही स्नान में लाखों श्रद्धालुओं के पहुंचने का दावा समिति के सदस्यों ने किया है।

आज इन कार्यक्रमों का होगा आयोजन

  • जानकी जयंती पर शाही स्नान
  • संत समागम में कार्यक्रमों का आयोजन
  • रामायण
  • मानस भजन
  • लोकमंच पैरीधार
  • तिरंंगा डंडा नृत्य
  • लोक नृत्य
  • नाचा पार्टी
  • राउत नाचा
  • पंडवानी

राजिम कुंभ में ये व्यवस्थाएँ

More from Fast SamacharMore posts in Fast Samachar »
More from छत्तीशगढ़More posts in छत्तीशगढ़ »

Be First to Comment

Leave a Reply

error: Content is protected !!
%d bloggers like this: