Press "Enter" to skip to content

जन्म और मृत्यु की यात्रा के बीच सदकर्म सबसे महत्वपूर्ण, मुख्यमंत्री डॉ. यादव पहुंचे नेवरी मंदिर

भगवान चित्रगुप्त प्रकटोत्सव कार्यक्रम में शामिल हुए

भोपाल: डॉ. मोहन यादव आज अखिल भारतीय कायस्थ महासभा की ओर से आयोजित भगवान चित्र प्रकटोत्सव में शामिल हुए।


इस अवसर पर खेल एवं युवा कल्याण और सहकारिता मंत्री श्री विश्वास कैलाश सारंग ने मुख्यमंत्री डा यादव का स्वागत किया और महासभा के राष्ट्रीय कार्यकारी अध्यक्ष होने के नाते संगठन की गतिविधियों का विवरण दिया।

मुख्यमंत्री डॉ यादव ने भगवान चित्रगुप्त प्रकटोत्सव कार्यक्रम को संबोधित करते हुए कहा कि मनुष्य का जन्म होता है तो मृत्यु भी अटल है। व्यक्ति के संसार में आने और जाने के बीच सबसे महत्वपूर्ण है सदमार्ग की ओर जाना। यह हिंदू समाज का गौरवशाली पक्ष है। जन्म और मृत्यु के बीच की जो यात्रा है उसमें पुण्य कर्मों के साथ ही अन्य कर्मों और जाने, अनजाने में हुई त्रुटियों के साक्षी भगवान चित्रगुप्त जी होते हैं। वे  मृत्यु लोक में व्यक्ति के कर्मों का हिसाब किताब रखते हैं। आज नास्तिक लोगों के पास भी इस बात का कोई उत्तर नहीं है।  जन्म के बाद मृत्यु अवश्यंभावी है। मुख्यमंत्री डॉ.यादव ने कहा कि आज गोपाष्टमी है और भगवान चित्रगुप्त जी का प्रकटोत्सव है। कृष्ण जन्माष्टमी और गोपाष्टमी ही सबसे महत्वपूर्ण अष्टमी होती हैं। आज भगवान चित्रगुप्त की अनुकंपा इस कार्यक्रम में आकर मिली है।

मुख्यमंत्री डॉ यादव ने कहा कि अखिल भारतीय कायस्थ महासभा के इस कार्यक्रम में उपस्थित बंधुओं को प्रणाम करते हुए यह आशा व्यक्त करता हूं कि  जिस तरह अयोध्या में भगवान राम मुस्कुरा रहे हैं शीघ्र ही भगवान कृष्ण की जन्म भूमि में प्राण प्रतिष्ठा का अवसर भी आएगा।
खेल एवं युवा कल्याण और सहकारिता मंत्री श्री विश्वास कैलाश सारंग ने कहा कि कायस्थ समाज हिंदू समाज को दिशा दिखाने वाला समाज है। नेवरी के इस मंदिर प्रांगण के विकास का कार्य स्वर्गीय कैलाश सारंग जी के प्रयासों से हुआ। उन्होंने भारत में कायस्थ समाज को एकजुट करने का कार्य किया। महासभा द्वारा आज मुख्यमंत्री डॉ यादव का अभिनंदन किया जा रहा है। वे आज उत्तर प्रदेश में चुनाव प्रचार के लिए रवाना हो रहे हैं। शीघ्र ही कायस्थ समाज का विशाल सम्मेलन आयोजित होगा जिसमें मुख्यमंत्री डॉ यादव को आमंत्रित किया जाएगा।प्रारंभ में स्वागत भाषण में श्री अजय श्रीवास्तव नीलू ने कहा कि इस मंदिर की परिकल्पना स्वर्गीय कैलाश सारंग जी ने की थी। कायस्थ महासभा के पदाधिकारी गण द्वारा भी मुख्यमंत्री डॉ यादव का स्वागत किया गया।


प्रारंभ में मुख्यमंत्री डॉ. यादव ने भगवान चंद्रगुप्त मंदिर में पूजा अर्चना की। मुख्यमंत्री डॉ यादव ने स्व श्री कैलाश सारंग के चित्र पर माल्यार्पण किया।

More from Fast SamacharMore posts in Fast Samachar »
More from ShivpuriMore posts in Shivpuri »

Be First to Comment

Leave a Reply

error: Content is protected !!
%d bloggers like this: