Press "Enter" to skip to content

ठग ने बताया ससुराल पक्ष का रिश्तेदार: फर्जी मैसेज भेजकर 40 हजार रुपए की कर दी ठगी / Shivpuri News

शिवपुरी: जिले के तेंदुआ थाना क्षेत्र के रुहानी के रहने वाले एक किसान को फर्जी मैसेज भेजकर अज्ञात ठग ने 40 हजार रुपए की ठगी कर दी। ठग ने फोन पर खुद को किसान का रिश्तेदार बताकर ठगी की वारदात को अंजाम दिया। इसके बाद किसान पुलिस से शिकायत करने के लिए बार-बार थाने के चक्कर लगाता रहा लेकिन उसकी सुनवाई नहीं हुई। परेशान होकर वह सोमवार को एसपी ऑफिस पहुंचा। इसके बाद डेढ़ महीने बाद एफआईआर दर्ज की गई।


जानकारी के मुताबिक रुहानी के रहने वाले 38 वर्षीय किसान जयपाल सिंह पुत्र रूप सिंह राजावत पर 29 दिसम्बर 2023 को किसी अज्ञात व्यक्ति का फोन आया था। व्यक्ति ने खुद को किसान का ससुराल पक्ष का रिश्तेदार होना बताया था। जब जयपाल ने उसे पहचानने से इनकार किया तो उक्त युवक ने जयपाल की पत्नी से बात की और उसे भरोसा दिला दिया कि वह उनका रिश्तेदार है। इसके बाद उसने जयपाल को बातों-बातों में बहला फुसला कर कहा कि उसे किसी से 50 हजार रुपए लेने हैं, लेकिन उसका फोन-पे खराब है।

इसलिए जयपाल उसे अपना खाता नंबर बता दें, ताकि वह उस व्यक्ति से अपने पैसे जयपाल के खाते में मंगवा ले। जयपाल ने उस अज्ञात व्यक्ति को अपना मध्यांचल ग्रामीण बैंक का खाता नंबर दे दिया। कुछ ही देर बाद ठग ने जयपाल को 25-25 हजार रुपए के दो फर्जी मैसेज भेजे कि जयपाल के खाते में 50 हजार रुपए जमा हो चुके हैं, लेकिन वास्तविकता में उसके खाते में कोई पैसा जमा हुआ ही नहीं था। ठग ने कुछ देर बाद एक खाता नंबर जयपाल को दिया और कहा कि वह पैसे इस खाते में ट्रांसफर कर दे। जयपाल ने 40 हजार रुपए ठग द्वारा बताए गए खाते में ट्रांसफर किए तो जयपाल के बैंक से उसके मोबाइल पर 40 हजार रुपए ट्रांसफर का मैसेज आया। जिसमें जयपाल ने अपने खाते का बैलेंस देखा तो पता चला कि उसके कथित रिश्तेदार द्वारा जो मैसेज उसके मोबाइल पर भेजे गए थे वह पैसा उसके खाते में आया ही नहीं है।

इसके बाद उसने उस मोबाइल नंबर पर फोन लगाया जिससे उसे फोन किया गया था। ठग फोन पर बात करते हुए उसे बहलाता रहा कि मैसेज फैल हो गया होगा, पैसा आ जाएगा। लेकिन ऐसा नहीं हुआ। अंततः जयपाल को यह यकीन हो गया कि उसके साथ ठगी हो गई है। जयपाल के अनुसार उसने बैंक मैनेजर से संपर्क कर वह खाता होल्ड करवा दिया जिसमें पैसा जमा किया गया था। बकौल जयपाल राजावात इस मामले में पुलिस से उसे सही समय पर मदद नहीं मिली। उसने बताया कि घटना दिनांक को ही पुलिस के पास एफआईआर के लिए पहुंचा तो पुलिस ने उसे यह कह कर लौटा दिया कि 40 हजार रुपए की कोई एफआईआर नहीं होती है। तुम एसपी आफिस जाओ मामला साइबर क्राइम का है।

इस पर जयपाल सिंह राजावत एसपी आफिस आया, यहां शिकायत दर्ज कराई लेकिन कोई फायदा नहीं हुआ और डेढ़ माह तक यहां वहां भटकाने के बाद तेंदुआ थाना पुलिस ने अज्ञात आरोपी के खिलाफ धोखाधड़ी का मामला दर्ज किया है।

More from Fast SamacharMore posts in Fast Samachar »
More from ShivpuriMore posts in Shivpuri »

Be First to Comment

Leave a Reply

error: Content is protected !!
%d bloggers like this: