Press "Enter" to skip to content

जैन साध्वी स्वस्तिभूषण माताजी का शिवपुरी में भव्य मंगल प्रवेश, 14 वर्षों के लम्बे अंतराल के बाद हुआ नगरा आगमन / Shivpuri News

शिवपुरी: जैन समाज की सर्वोच्च साध्वी श्री 105 आर्यिका स्वस्ति भूषण माताजी का नगर में भव्य मंगल प्रवेश हुआ।भारत गौरव, स्वस्तिधाम प्रणेत्री,परम विदुषी लेखिका गणिनी आर्यिका श्री 105 स्वस्ति भूषण माताजी ससंघ श्री सिद्धक्षेत्र सोनागिर जी से मंगल पद विहार करते हुए शिवपुरी के श्री पार्श्वनाथ दिगंबर जैन अतिशय क्षेत्र छत्री मंदिर पहुंची। ज्ञातव्य हो की पूज्य माताजी का सोनागिर में वर्षायोग संपन्न हुआ था।वर्षायोग के दौरान माताजी ने सोनागिर में अनेकों धार्मिक आयोजनों के साथ साथ श्री सहस्त्रकूट जिनालय एवम जैनाचार्य सिंहरथ प्रवर्तक विद्याभूषण सन्मतिसागर गुरु मंदिर का शिलान्यास भी कराया था।नगर के वरिष्ठ समाजसेवी महेंद्र जैन भैयन ने जानकारी देते हुए बताया कि पूज्य माताजी लगभग 14 वर्ष पूर्व शिवपुरी पधारी थी,तब पूज्य माताजी ने शिक्षण शिविरों के माध्यम से काफी धर्म प्रभावना की थी। माताजी के मंगल आगमन से जैन समाज में काफी हर्ष व्याप्त है।जैन समाज के लोगों ने नगर की सीमा पर पहुंचकर आर्यिका संघ की अगवानी की। अगवानी के पश्चात ढोल नगाड़ों के साथ भव्य शोभायात्रा के रूप में आर्यिका संघ को नगर के प्रमुख मार्गो से भ्रमण कराते हुए छत्री जैन मंदिर ले जाया गया। शोभा यात्रा के दौरान विभिन्न स्थानों पर पूज्य आर्यिका संघ का पाद प्रक्षालन एवम आरती उतारकर भव्य अगवानी की गई। शोभायात्रा का जगह जगह स्वागतद्वार बनाकर स्वागत किया गया। जैन बंधु, माताएं, बहिनें जैन भजनों पर भक्ति नृत्य कर चलायमान थीं। युवा साथी हाथों में पचरंगी ध्वजा लेकर चल रहे थे।भव्य एवम विशाल शोभा यात्रा नगर भ्रमण करती हुई छत्री जैन मंदिर पहुंची।छत्री जैन मंदिर में पूज्य गणिनी आर्यिका स्वस्ति भूषण माताजी ने धर्म सभा को संबोधित करते हुए सभी उपस्थित बंधुओं को आशीर्वाद प्रदान किया।

More from Fast SamacharMore posts in Fast Samachar »
More from ShivpuriMore posts in Shivpuri »

Be First to Comment

Leave a Reply

error: Content is protected !!
%d bloggers like this: