Press "Enter" to skip to content

पाकिस्तान बोला- जम्मू-कश्मीर पर अवैध कब्जा है भारत का। कहा- बहादुरी से सामना कर रहे है कश्मीरी, अत्याचारों का / #INTERNATIONAL

तस्वीर में पाकिस्तान के केयटेकर विदेश मंत्री जलील अब्बास जिलानी ब्रुसेल्स में कश्मीर पर लगी प्रदर्शनी दखते नजर आ रहे हैं।

पाकिस्तान की केयरटेकर सरकार के विदेश मंत्री जलील अब्बास जिलानी ने बुधवार को कहा कि साउथ एशिया में शांति तभी हो पाएगी जब जम्मू-कश्मीर मसले का हल UNSC के प्रस्तावों और कश्मीरियों की इच्छा के तहत निकाला जाएगा। बुधवार को ब्राजील की राजधानी ब्रुसेल्स में मौजूद पाकिस्तानी दूतावास में कश्मीर एकजुटता दिवस मनाया गया।

इस दौरान एक प्रदर्शनी के तहत जम्मू-कश्मीर में भारत से उत्पीड़ित लोगों की दुर्दशा को दिखाया गया। विदेश मंत्री ने कहा- जम्मू-कश्मीर को भारत जबरदस्ती कंट्रोल करने की कोशिश कर रहा है। ऐसे में यहां के बेटों और बेटियों ने पूरी बहादुरी से इसका विरोध किया।

तस्वीर ब्रुसेल्स की है, जहां पाकिस्तान के केयरटेकर विदेश मंत्री जिलानी ने कश्मीर से जुड़ी एक प्रदर्शनी का उद्घाटन किया।

तस्वीर ब्रुसेल्स की है, जहां पाकिस्तान के केयरटेकर विदेश मंत्री जिलानी ने कश्मीर से जुड़ी एक प्रदर्शनी का उद्घाटन किया।

जिलानी बोले- भारत कश्मीरियों की इच्छा दबाने में नाकाम रहा
जिलानी ने आगे कहा- भारत ने जम्मू-कश्मीर पर अवैध तरह से कब्जा कर रखा है। आज हम उन शहीदों को श्रद्धांजलि देते हैं, जिन्होंने कश्मीर के हित के लिए भारत के अत्याचार के सामने अपनी जान गंवा दी। भारत कश्मीरी लोगों की इच्छा को दबाने में नाकाम रहा है और उनके बलिदानों को इतिहास में याद रखा जाएगा।

विदेश मंत्री ने अंतरराष्ट्रीय समुदाय से अपील की है कि वो सामने आकर जम्मू-कश्मीर में भारत की तरफ से हो रहे मानवीय अधिकारों के उल्लंघन का विरोध करे। जिससे कश्मीर में भारत सरकार के 5 अगस्त 2019 के फैसले को पलटकर आर्टिकल 370 को फिर से लागू किया जा सके।

केयरटेकर PM ने कहा था- कश्मीर हमारी नसों में
इससे पहले 14 दिसंबर को पाकिस्तान के केयरटेकर PM अनवार-उल-हक काकड़ ने भी कहा था कि आर्टिकल 370 पर भारत के सुप्रीम कोर्ट का फैसला राजनीति से प्रेरित है। हम कश्मीर के लोगों के लिए नैतिक, राजनीतिक और डिप्लोमैटिक सपोर्ट जारी रखेंगे। घरेलू कानून और न्यायिक फैसलों के जरिए भारत अपने फर्ज से छुटकारा नहीं पा सकता।

पाकिस्तान के कब्जे वाले कश्मीर (PoK) में लेजिस्लेटिव असेंबली के स्पेशल सेशन को संबोधित करते हुए काकड़ ने कहा था- कश्मीर पाकिस्तान की नसों में हैं। पाकिस्तान शब्द ही कश्मीर के बिना अधूरा है। पाकिस्तान और कश्मीर के लोगों में एक खास रिश्ता है। राजनीति से अलग हटकर पूरा पाकिस्तान इस बात का समर्थन करता है कि कश्मीरियों के पास अपने फैसले लेने का हक है।

More from Fast SamacharMore posts in Fast Samachar »

Be First to Comment

Leave a Reply

error: Content is protected !!
%d bloggers like this: