Press "Enter" to skip to content

भूटान के राजा जिग्मे वांगचुक से मिले मोदी: गले लगाया PM टोबगे ने, कहा- बड़े भाई का स्वागत है; युवाओं का गरबा मोदी के लिखे गाने पर /INTERNATIONAL

प्रधानमंत्री मोदी ने ताशिचो द्जोंग पैलेस में भूटान के राजा जिग्मे वांगचुक से मुलाकात की।

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी भूटान के दो दिन के दौरे पर हैं। वो राजधानी थींपू के ताशिचो द्जोंग पैलेस पहुंचे। यहां उनका औपचारिक स्वागत हुआ। उन्होंने भूटान के राजा जिग्मे वांगचुक से मुलाकात की।

इसके पहले प्रधानमंत्री शेरिंग टोबगे ने पारो एयरपोर्ट पर उनका गले मिलकर स्वागत किया। टोबगे ने मोदी से कहा, ‘स्वागत है मेरे बड़े भाई।’ उन्हें गार्ड ऑफ ऑनर भी दिया गया।

इस बीच भूटानी युवाओं ने भी उनका स्वागत किया। युवाओं ने मोदी के लिखे गाने पर गरबा किया। न्यूज एजेंसी ANI के मुताबिक PM मोदी 22-23 मार्च को भूटान में रहेंगे। पहले उनका दौरा 21-22 मार्च को होने वाला था। यह भूटान के पारो एयरपोर्ट पर मौसम की स्थिति खराब होने के चलते रद्द हो गया था।

ताशिचो द्जोंग पैलेस में मोदी का औपचारिक स्वागत हुआ।

ताशिचो द्जोंग पैलेस में मोदी का औपचारिक स्वागत हुआ।

प्रधानमंत्री शेरिंग टोबगे ने पारो एयरपोर्ट पर PM मोदी को गले लगाया।

प्रधानमंत्री शेरिंग टोबगे ने पारो एयरपोर्ट पर PM मोदी को गले लगाया।

पारो एयरपोर्ट पर पहुंचने के बाद PM मोदी को गार्ड ऑफ ऑनर दिया गया।

पारो एयरपोर्ट पर पहुंचने के बाद PM मोदी को गार्ड ऑफ ऑनर दिया गया।

भूटान के युवाओं ने मोदी के लिखे गाने पर गरबा किया।

भूटान के युवाओं ने मोदी के लिखे गाने पर गरबा किया।

चुनावों के ऐलान के बाद विदेश दौरे पर जाने वाले पहले प्रधानमंत्री
मोदी भारत में आम चुनावों का ऐलान होने के बाद किसी विदेश दौरे पर जाने वाले पहले प्रधानमंत्री हैं। एक्सपर्ट्स के मुताबिक चुनाव से ठीक पहले भूटान जाकर मोदी ने पड़ोसी देश को उसकी अहमियत का एहसास कराने की कोशिश की है।

भूटान भी मोदी को अपना सर्वोच्च नागरिक सम्मान – ऑर्डर ऑफ द ड्रुक ग्यालपो से नवाजेगा। यह सम्मान भूटान के राजा उन्हें देंगे। इसके अलावा भूटान के राजा जिग्मे वांगचुक भारत-भूटान संबंधों को मजबूत करने और कोरोना के समय मदद करने के लिए मोदी को एक अन्य अवॉर्ड से भी सम्मानित करेंगे।

PM मोदी ने पारो एयरपोर्ट पर भूटानी अधिकारियों से भी मुलाकात की।

PM मोदी ने पारो एयरपोर्ट पर भूटानी अधिकारियों से भी मुलाकात की।

दोनों देशों के प्रधानमंत्री की मौजूदगी में ऊर्जा संरक्षण और खाद्य सुरक्षा मानकों पर सहयोग से जुड़े समझौते हुए।

दोनों देशों के प्रधानमंत्री की मौजूदगी में ऊर्जा संरक्षण और खाद्य सुरक्षा मानकों पर सहयोग से जुड़े समझौते हुए।

भूटान में आज सभी स्कूल बंद
भूटान में मोदी का स्वागत करने के लिए आज सभी स्कूल बंद हैं। छात्र उनका स्वागत करने के लिए एक्सप्रेस हाईवे पर पहुंचे। भूटान के प्रधानमंत्री टोबगे 5 दिन के लिए (14-18 मार्च) भारत आए थे। जनवरी 2024 में PM बनने के बाद यह उनकी पहली विदेश यात्रा थी। यात्रा के दौरान टोबगे ने राष्ट्रपति द्रौपदी मुर्मू, PM मोदी से मुलाकात की थी। इसी दौरान उन्होंने PM मोदी को भूटान के दौरे पर आमंत्रित किया था। इसे मोदी ने स्वीकार भी कर लिया था।

भूटान के लोगों ने PM मोदी का स्वागत किया।

भूटान के लोगों ने PM मोदी का स्वागत किया।

भूटान में बच्चे प्रधानमंत्री मोदी के स्वागत में भारत और भूटान का झंडा लिए खड़े थे।

भूटान में बच्चे प्रधानमंत्री मोदी के स्वागत में भारत और भूटान का झंडा लिए खड़े थे।

भूटान का दौरा क्यों कर रहे PM मोदी
अंतर्राष्ट्रीय मामलों पर नजर रखने वाली मैग्जीन द डिप्लोमेट के मुताबिक इस वक्त भूटान के दौरे की एक अहम वजह चीन भी है। दरअसल, पिछले साल भूटान के पूर्व प्रधानमंत्री लोते थेरिंग ने डोकलाम को तीन देशों का विवाद बताया था। इस पर भारत ने नाराजगी जाहिर की थी। थेरिंग का बयान भारत के उस स्टैंड से उलट है, जिसमें वो डोकलाम को भारत और भूटान के बीच का मसला मानता है।

भूटान के प्रधानमंत्री थेरिंग ने ये बात बेल्जियम की न्यूज वेबसाइट ‘डेली ला लिब्रे’ को दिए इंटरव्यू में कही थी। इसमें उन्होंने कहा था- डोकलाम मसले का हल सिर्फ भूटान नहीं निकाल सकता। इस मामले से तीन देश जुड़े हैं। और इस मामले में किसी भी देश को छोटा नहीं माना जा सकता। सब बराबर के हिस्सेदार हैं।

इससे पहले कुछ मीडिया रिपोर्ट्स में दावा किया गया था कि भूटान, इसके कई हिस्सों पर चीन दावा करता है। भूटान उन पर चीनी कब्जे का ज्यादा विरोध नहीं करेगा। भारत भूटान के इस रुख को अपने लिए खतरे का संकेत मानता है। मोदी के दौरे के वक्त सीमा विवाद को लेकर भारत अपना पक्ष और मजबूत करेगा।

भूटान का सबसे बड़ा सहयोगी देश है भारत
ऐतिहासिक तौर पर भूटान हमेशा भारत के करीब रहा है, हालांकि उसकी फॉरेन पॉलिसी में भारत ने कभी दखलंदाजी नहीं की। 8 लाख की आबादी वाले भूटान की गुट निरपेक्ष नीति है। उसके अमेरिका, चीन, ब्रिटेन, फ्रांस और रूस से राजनयिक संबंध नहीं हैं। 1949 में भारत-भूटान में विदेश नीति, व्यापार व सुरक्षा को लेकर संधि हुई थी। 2007 में विदेश नीति का प्रावधान हटा दिया गया। भारत अब भूटान का सबसे बड़ा राजनयिक और आर्थिक साथी है।

भूटान के PM टोबगे ने PM मोदी से मुलाकात के दौरान उन्हें कल्कि की एक विशेष पेंटिंग गिफ्ट में दी थी।

भूटान के PM टोबगे ने PM मोदी से मुलाकात के दौरान उन्हें कल्कि की एक विशेष पेंटिंग गिफ्ट में दी थी।

क्या है डोकलाम विवाद
डोकलाम दरअसल, एक त्रिकोणीय जगह है। इसे ट्राइजंक्शन एरिया कहा जाता है। यहां से भारत का सिक्किम राज्य लगता है। भूटान की 600 किमी सीमा चीन से लगती है। दो इलाकों को लेकर सबसे ज्यादा विवाद है।

पहला- 269 वर्ग किमी क्षेत्रफल का डोकलाम इलाका और दूसरा- उत्तर भूटान में 495 वर्ग किमी का जकारलुंग और पासमलुंग घाटी का क्षेत्र। सबसे गंभीर मामला डोकलाम का है, जहां चीन, भारत और भूटान तीनों देशों की सीमाएं लगती हैं। अक्टूबर 2021 में चीन और भूटान ने ‘थ्री-स्टेप रोडमैप’ के समझौते पर दस्तखत किए थे।

चीन डोकलाम के जिस इलाके में सड़क का निर्माण कर रहा था, वहां भूटान और चीन अपना-अपना दावा करते हैं। भूटान ने चीन से कंस्ट्रक्शन रोकने की मांग की। भारत इस विवाद में भूटान का साथ देता रहा है। वहीं, चीन इसे ब्रिटिश दौर में हुई ट्रीटी का हवाला देकर अपना इलाका बताता रहा है।

चीन से सीमा विवाद के चलते भारत के लिए अहम भूटान
भारत के अरुणाचल प्रदेश की सीमाएं भूटान के ईस्टर्न बॉर्डर से मिलती हैं। चीन का प्लान है कि वो अरुणाचल प्रदेश पर कब्जा कर ले, जिससे वो भूटान का पड़ोसी बन जाए। भूटान के वेस्टर्न हिस्से में स्ट्रैटेजिक पाइंट को जोड़ने के लिए चीन पहले से ही बड़े स्तर पर सड़कें बना रहा है।

रिपोर्ट्स के मुताबिक, चीन डोकलाम से गामोचिन तक अपनी सड़कों का विस्तार करना चाहता है, जिसकी सुरक्षा का जिम्मा अभी भारतीय सेना के पास है। सिलीगुड़ी कॉरिडोर के करीब जाने का चीन का प्रयास भारत और भूटान दोनों के लिए एक सुरक्षा खतरा है। चीन इस क्षेत्र में रेलवे लाइनों के अपने नेटवर्क का विस्तार कर रहा है, जिससे युद्ध के समय उसकी सेना को बड़ा एडवांटेज मिल सकता है।

भूटान में निवेश के लिए अहम भारत
भूटान ने 1960 के दशक में आर्थिक विकास के लिए अपनी पहली पंच वर्षीय योजना शुरू की थी। जिसकी सारी फंडिंग ही भारत ने की थी। 2021 में भारत सरकार ने भूटान के साथ द्विपक्षीय व्यापार को बढ़ाने के लिए 7 नए ट्रेड रूट खोले थे। वहीं 12वीं पंच वर्षीय योजना के लिए भी भारत ने भूटान को 4500 करोड़ रुपए दिए थे।

भारत की आजादी के बाद दोनों देशों के बीच एक संधि हुई थी। इसमें कई प्रावधान थे, जिनमें सबसे महत्वपूर्ण रक्षा और विदेश मामलों में भूटान की निर्भरता को लेकर था। हालांकि समय-समय पर इस संधि में कई बदलाव हुए, लेकिन आर्थिक सहयोग को मजबूत करने और उसके विस्तार के लिए, संस्कृति-शिक्षा, स्वास्थ्य, खेल, विज्ञान और प्रौद्योगिकी के क्षेत्र में आपसी सहयोग के प्रावधान बने रहे।

More from Fast SamacharMore posts in Fast Samachar »

Be First to Comment

Leave a Reply

error: Content is protected !!
%d bloggers like this: